Everlasting Smile Wisdom

Be the reason for a million smiles but never be a reason for even a single grudge

poem

वक्त जैसे गुजरता गया, मैं खुद को पहचानता गया…( As time went by, I have become aware of myself )

वक्त जैसे गुजरता गया,

 मैं खुद को पहचानता गया..

 मैं वह नहीं जो में आजतक करता गया,

 जाने अनजाने में लोगों के दिल दुखाता गया…

 मंजिल मेरी वह नहीं, जिन रास्तों पर मैं चलता गया,

पाना  मुजे  वह नहीं जिसके पीछे मैं भागता गया…

हकीकत से पर्दे उठाता गया,

आइना  और साफ बनता गया…

वक्त जैसे गुजरता गया,

 मैं खुद को पहचानता गया..

 जब से तुम्हें चाहता गया,

 प्यार की भाषा समझता गया..

 जबसे तुम्हें खोने का डर लगता गया,

 कसमे वादे में भी निभाता  गया…

वक्त जैसे गुजरता गया,

 मैं खुद को पहचानता गया..

 जितना नजदीक से तुम्हे  जानता गया

 मैं वफ़ा को मानता गया…

जितना तुम्हे  पाता गया

मैं खुदा को चाहता गया…

वक्त जैसे गुजरता गया,

 मैं खुद को पहचानता गया..

Translation in English

As time went by,

 I have become more aware of myself ..

I am not what I have done till date

Intentionally or unintentionally but I have hurt  people’s hearts

 My destiny was different then the route leads to on which I have walked

I don’t want those things behind  which I have kept running

When curtain was raised from reality,

The mirror becomes clearer

As time went by,

 I have become more aware of myself ..

The more I have loved you

 The more I have understood the language of love

The more I have faced fear of losing you

I also have started fulfilling promises

 The more I have come to know about you closely

The more I have believed in loyalty

The more I could have you

The more I have started loving God

As time went by,

 I have become more aware of myself ..

 

43 Comments

  1. Mujhe laga main hi achha likhta hu hindi me !
    आज भरम जो टुटा है ,
    मैं रात आज सौ दफा लिखूँगा , उसी दास्ता को !👌👌

  2. Nice reply to The insider

  3. I am check your fb profile its nice

  4. WoW!! Love reading this beautifully crafted verse👌👌
    दिन ढलता है वक्त गुजरता है शाम होती है
    जिंदगी यूही तमाम होती है
    बदल गये हमको बदलकर तुम क्यु
    भीड़ में लाखों की अकेले में
    खुद से ये बात होती है ।

  5. हकीकत से पर्दे उठाता गया,
    आइना  और साफ बनता गया…
    वक्त जैसे गुजरता गया,
     मैं खुद को पहचानता गया..
    …….wah… beautifully expressed. Loved it

  6. beautiful in english, more musical in hindi. Was? Is!

  7. Kaushik Prasad

    beautifully penned. 😊

  8. Beautiful. Thank you for following my blog, I will certainly take time to visit yours as well. Have a happy day! 🙂

  9. क्या बात है बहुत खूब विहासी जी

  10. Real Words at all…!!!☺
    #Impressive😎👌

  11. Anonymous

    Super one….

Leave a Reply

Theme by Anders Norén

%d bloggers like this: